किरायेदार लड़की की वर्जिन चुत को चोदा बाथरूम में

नमस्कार दोस्तों मेरी कहानी पर आप सभी का स्वागत है। मैं अजमेर में रहता हूँ, यह स्टोरी मेरी और एक कॉलेज की कामुक लड़की के साथ हॉट सेक्स की है. मेरा मकान काफी बड़ा है इस लिए हमने 2-3 लोगो को रूम भाड़े पर दिए हुए है. हमारा एक कमरा किराये के लिए खाली था, इस लिए हम लोग किसी भाड़ेवाले को खोज रहे थे. एक दिन एक हॉट लड़की भाड़े का घर ढूंढते हुए मेरे यहाँ आई. जैसे ही में घर से बहार निकला ,तो उसने मुझसे पुछा – क्या आपके यहाँ रूम खाली है,मैंने उसे हा कहा और उसको साथ लेकर रूम दिखाने लगा,उसे घर बहुत पसंद आया. मेने रेंट की बात करने के लिए अपनी माँ को बुलाया,क्यों की ये रेंट वाले काम मेरी माँ ही देखती है.माँ और लड़की दोनों की बात होने लगी, मैं उस हॉट लड़की को देखने लगा ,क्या सेक्सी माल थी, उसकी उम्र तक़रीबन 25 की होगी, बड़े बड़े बूब्स कुछ 34  साइज़ के लग रहे थे, नैन-नक्श तीखे, पतली कमर और मोटी गांड थी, लड़की को भाड़ा कुछ ज्यादा लग रहा था, माँ ने कुछ कम कर दिया. लड़की बोली ओके वो कल से ही आ जाएगी रहने के लिए. अगले ही दिन वो अपना सामान लेके मेरे घर पर रहने आगई।

दोस्तों उसका नाम रेखा था और वो दिकने में बहुत जन्नत की पारी जैसी लगती थी। दोस्तों में आप को बता दू की मुझे कामुक चुदाई स्टोरी पढ़ने का काफी शोक था इस लिए मेने मार्किट से कुछ सेक्सी बुक खरीदी थी जो में रोज पढता था। दोस्तों रेखा में काफी सीधी लगती थी  और उसका व्यव्हार भी अच्छा था वो सब लोगो से है के बात किया करती थी। रेखा कुछ ही दिनों में हमारे परीवार में गुल मिल गई और अब रेखा कभी कभी हमारे साथ बैठ के घंटो तक बाते किया करते थे। धीरे धीरे रेखा मेरे रूम में भी आने लगी एक दिन में नाहा रहा था और रेखा मेरे कमरे में आई लेकिन में नहीं मिला इस लिए वो वापिस चली गई मुझे मालूम पड़ गया की कोई न कोई रूम आया जरूर क्यों की मेरी कामुक किताबो में से २ किताब गायब थी.

और पहले ऐसा कभी नहीं हुआ था तो मुझे थोड़ा शक तो रेखा पर हो गया था की सायद वो ही लेके गई है। दोस्तों वो मुझे काफी पसंद आती थी एक दिन में उसे ताड रहा था तो बोली क्या देख रहे हो तो मेने उसे कहा की मेडम कोफ़ी  पियोगी। तो कहने लगी की कोफ़ी तो मेरा फेवरेट है और बोली की कोफ़ी में बनाउंगी मेने कहा की ठीक है जैसी आप की मर्ज़ी और फिर उसने कोफ़ी बनाई कोफ़ी काफी अच्छी बनाई थी तो मेने भी तारीफ के फूल बांध दिए तो बोली थैंक्स।दोस्तों जब ऊपर वाला देना चाहे कोई उसे नहीं रोक सकता ये बात अगले दिन की है में घर में एकेला था मम्मी पापा कही बहार थे और रेखा और में घर पे थे। मेने थोड़ी देर तो टीवी देखा फिर में जब कंटाल गया तो उठ के रेखा के कमरे में चला गया और उसे बाते करने लगा मेने बातो बातो में उसे पूछ लिया की तुम्हारा बॉयफ्रेंड कहा है।

तो रेखा शर्मा गई और कहा की प्लीज  जाओ कोई देख लेगा तो क्या कहेगा तो मेने उसे कहा की तुम उसकी चिंता मत करो आज घर पर कोई नहीं है तुम खुल के बात कर सकती हो और बोली की मेरा कोई बॉयफ्रेंड नहीं है फिर रेखा ने मुझे कहा की तुम्हारी तो कोई गर्लफ्रेंड जरूर होगी तो मेने सर हिलाते हुए मन कर दिया की मेरी कोई गर्लफ्रेंड नहीं है फिर मेने रेखा को बम्पर ऑफर दे ही दिया मेने  रेखा को कहा की क्या तुम मेरी गर्लफ्रेंड बनोगी तो पहले तो वो सरमाई कोई कहा की तुम जाओ यहाँ से तो मेने कहा की सोचना मेडम जवाब देना मुझे तो उसने कहा की में कल सोच के बताउंगी। दूसरे दिन जब वो कॉलेज से वापिस आरही थी तब वो अपने कमरे में जाते हुए मुझे एक सेक्सी मुस्कान देके अंदर चली गई तो में भी पीछे पीछे अंदर चला गई और मेने उसे पूछा की आप ने क्या सोचा तो बोली दोस्ती कबूल है तो मेने भी कह दिया कबूल है कबूल है कबूल है तो जोर जोर से है पड़ी और मुझे हग कर दिया।

दोस्तों जब उसने मुझे हग किया तो मेरा बॉडी एकदम 440 का करंट महसूस किया था और मेने उसे कहा की आई लव यू तो रेखा ने भी मुझे तुरंत कह दिया आई लव यू टु। जब मेरे कमरे से कामुक बुक गायब हुई थी तब ही मुझे अहसास हो गे की कुछ अच्छा  होने वाला है अब में मन ही मन खुश था फिर उसने कहा की तुम्हारी गर्लफ्रेंड बननेसे मेरा ही फायदा है तो मेने कहा वो कैसे तो बोली की मुझे कोई कॉलेज में परेशान नहीं करेगा और मेरा किराया भी बच जायेगा। मुझे थोड़ा डाउट लगा तो मेने कहा की किराया तो माँ ही लेती है में नहीं लेता। तो रेखा बोली की में तुम्हे किराया दे दूंगी तुम माँ को दे देना तो मेने कहा की तुम किराया मुझे दो या माँ को क्या फरक पड़ता है वो फिर हस्ते हुए बोली की तुम बड़े ही बुद्धु हो पर में उसे क्या मालूम में ये जान बुज़ के बोल रहा था फिर मेने कहा की तुम जिसे देना चाहो दे देना अब में  चलता हु बाद में मिलूंगा तो उसने कहा ओके।

अगले दिन पापा को गांव से कॉल आया की दादीजी की तबियत ख़राब है तो पापा ने मुझे कहा की बेटा तुम घर पे रहो और ध्यान रखना में और तुम्हारी माँ गांव जा रहे है। मेने कहा की ठीक है और वो गांव जाने की तैयारी करने लगे।दोस्तों में तो ख़ुशी से पागल हो रहा था क्यों की अब मुझे रेखा को चोदने का मौका जो मिल गया था। जब में मम्मी पापा को स्टेशन छोड़ने जा रहा था तब रेखा ने मुझसे पूछा की कहा जा रहे हो मेने कहा की मम्मी पापा गांव जा रहे हो तो वो थोड़ी मुस्कराई और अंदर चली गई। बाद में जब में वापिस घर आया तो मेने रेखा के कमरे का पानी बंद कर दिया था तो रेखा मेरे कमरे में आई में तो चौक गया क्यों की वो नाईट ड्रेस में आई थी टॉवेल लेके और मुझे कहा की मेरे कमरे में पानी नहीं आरहा है क्या में तुम्हारे बाथरूम में नाहा लू तो मेने कहा की नाहा लिजीये मेडम आप ही का बाथरूम है

लेकिन थोड़ा जल्दी मुझे भी नहाना है वो एक सेक्सी सी मुस्कान देकर नहाने चली गई। उसने अंदर से दूर बंद किया और अपने सरे कपडे उतर के नहा रही थी और में उसे दूर में एक हॉल था वह से रेखा को देख रहा था। मेरी आखो के सामने एक नंगा बदन था मेरा लैंड काफी टॉइट हो गया था में उसे देखने में इतना मग्न हो गया था की जब उसने दरवाज़ा खोला थो भी मुझे मालूम नहीं पड़ा। जैसे ही मेने रेखा ने मुझे तूच करा तो मेरे दिमाग के तोते उड़ गए। फिर रेखा भी गबरा कर बोली -तुम मुझे नहाते हुए देख रहे थे,  तो मैंने रेखा को पकड़ा और वापिस बाथरूम में घुस कर दरवाज़ा बंद कर लिया, मेन सोच लिया की आज में अपने हाथ से नहीं जाने दूंगा.

मैंने रेखा को अपने हाथों से टाइट पकड़ लिया और किस्स करने लगा,रेखा बोली तुम ये सब जो मेरे साथ कर रहे हो मैं ये बात तुम्हारे माँ को बता दूंगी. मैंने कहा-मैं ऐसे ही तुम्हारा रेंट थोड़े ही दे दूंगा वैसे भी तुम्हारे जैसी हॉट सेक्सी गरमा गर्म लड़की मुझे कहाँ मिलेगी. तो वो बोली तुम सब समझ कर मेरे साथ नाटक कर रहे थे, अब जब सब पता हो गया था तो शर्म करने की कोई बात ही नहीं थी,मैंने उसका टॉवेल खींच कर उसके गीले शिरर से अलग कर दिया. मैं अपने हाथों से रेखा की नर्म बूब्स दबाने लगा उसके उपर भी चुदाई का नशा छाने लगा. वो लोअर के उपर से ही मेरा लंड पकड़ कर सहलाने लगी और फिर बाहर निकाल कर अपने मुंह में लेकर चूसने लगी. मुझे मज़ा आ रहा था,मैंने उससे पूछा-तुम्हारी चूतड़ पहले कितनी बार चुद चुकी है ,उसने बताया -तुमसे ही पहली बार अपनी चूत चुदवाउंगी.

यह सुन कर मुझे तो बहुत ही उत्सुकता हो गई. बहुत दिनों के बाद आज किसी हॉट सेक्सी लड़की की वर्जिन चूत हाथ आई थी. मैंने रेखा के चुंचो को पकड़ के मसल दिए और रेखा के मुहं में अपने लंड को पूरा के पूरा ठूंस दिया. रेखा चसचस कर के लंड को चूसने लगी और मैंने पीछे से रेखा के सर को अपने लंड के ऊपर दबाने लगा. वो 5 मिनट तक मेरे लंड को ऐसे ही चुस्ती रही और फिर मैंने अपने हाथ से उसकी बिना बाल वाली सेक्सी चूत को दोनों हाथ से खोल दिया. चूत में मैंने जैसे ही लंड दिया रेखा की आह निकल पड़ी. मैंने रेखा की आह आह की कम परवाह करते हुए रेखा की चूत को मस्त 10 मिनिट तक पेला. जब उस मे अपने लंड का रस निकाला तो रेखा ने भी मुझे जकड़ के साथ ही में झाड़ना मुनासिब समझा.

Author: Chudaiporn

Leave a Reply