सोनम को सीढ़ियों पर ही चोद डाला

loading...

मेरे सभी चुत के पुजारियों को नमस्कार दोस्तों मेरा नाम रॉकी है में दिल्ली का रहने वाला हूँ। मेरी उम्र २२ साल है और में दिखने में बहुत हैंडसम हूँ इस वजह से मेरी मोह्हले की लड़किया मुझपे मरती है लेकिन में तो उनमे से एक ही लड़की पे मरता हूँ।  जिसका नाम सोनम है जो दिखने में बहुत खूबसूरत है उसका फिगर ३६-३०-३६ है और हम दोनों काफी दिनों से एक दूसरे को चाहते है मेने सोनम को कही बार किस्स किया हुआ है दोस्तों मैं उसकी चिकनी चूत में ऊँगली कई बार कर चूका हूँ लेकिन आज तक हम दोनों को ऐकले में कही ऐसी जगह नहीं मिली जहा हम सेक्स कर सके।

दोस्तों सोनम ने मुझे एक बार बताया था की की अपनी चुत की खूश्ली डिलडो (रबर का लण्ड) से बुजती है। कभी कभी तो वो अपनी चुत में ऊँगली भी डालती है और ये जान के में समज गया की उसकी चुत में कितनी आग जल रही है। दोस्तों कही दिनों से में सोच रहा था की में अपना लण्ड मेरी बीवी के लिए संभाल के रखूँगा लेकिन में अपने आप को रोक नहीं पाया और अब सोनम को चोदने का प्लान बना लिया की अब तो में सोनम को चोद के ही रहूँगा. अब में सोनम की चुत का भूखा हो गया था और जब सोनम भी असली लण्ड की चाह रखने लगी थी।

loading...

मैंने एक दिन सोनू को घुमाने ले जाने के लिए कहा तो उसने भी मुझे मना नहीं किया। फिर मेने अपने दोस्त को फ़ोन किया की यार मुझे एक रूम चाहिए कही हो तो बता तो उसने कहा की मेरे घर पे कोई नहीं है और मेरे घर की चाभी चौकीदार के पास है में उसे बोल दूंगा वो तुम्हे दे देंगे तो मेने कहा धन्यवाद मेरे दोस्त और फिर में और सोनम गुमने निकल गए। फिर थोड़ी देर बाद हम एक रोमांटिक मूवी देखने चले गए कुछ 25 मिनट मूवी देखा और उस मूवी में किसिंग सीन आगया तो सोनम थोड़ी उत्तेजित हो गई और मुझे चूमने लगी थोड़ी देर हम चूमा चाटी करने के बाद मेने सोनम को कहा की क्या तुम आज डिलडो की जगह असली लण्ड लेना चाहोगी तो उसने कहा की में तो कब से इस पल का इंतजार कर रही हूँ।

फिर मेने कहा की चलो तो उसने कहा की अभी मूवी बाकि है तो मेने कहा की अब ये मूवी नहीं हम मूवी बनायेगे किसिंग वाली। फिर मेने एक गेस्टहाउसे में रूम बुक किया और हम रूम  किसिंग चालू किया. हमारी चूमा  – चटाई इतनी ज़बरदस्त होने लगी की मेरे हाथ अब उसके गुप्त अंगों को सहलाने लगे. मैंने सोनम की जांघ को अपने हाथ से भींचते हुए उसकी कसके चुम्मी ली फिर नीचे से मस्त होते हुए उसके होंठों को चूसने में व्यस्त हो चला. मैं कुछ ही देर में उसके चुचों को अपनी कैद में भर लिया और उसके कुर्ती को उतार कर नंगे मोटे चुचों को बारी – बारी चूसने लगा. मैंने अब सोनम को मदहोश करते हुए उसे कुछ ही देर में कपडे उतार नंगी कर दिया.

loading...

मैं नीचे से सोनम की चुत की चूतड़ों में ऊँगली भी करने लगा और सोनम के चुचों को को पीते हुए सोनम की चुत पर थूक लगाया और अपनी उंगलियां अंदर – बहार करने लगा जिसके बाद तो हम दोनों को अपने होश सम्बालना मुस्कील हो गया था. मैंने अब कुछ भी सोचे बिना अपने लोहे जैसे कड़े लंड को निकाला जो की  कब से चूत के लिए तन के बैठा था और सीधे सोनम की चिकनी चुत के अंदर दे दिया. मेरे लंड के अंदर जाते ही सोनम की आह उह उह उह जैसे चींखें निकल पड़ी जिस पर मैंने सोनम को समझाया लंड अंदर जाने से थोडा दर्द सभी को होता हैं.

मैं अपनी हसरत को पुरे करते हुए टकराव की कामुक आवाजों को साथ सोनम की चुत को चोदे जा रहा था और सोनम भी अपनी गांड हिलाकर चुदाई का मज़ा ले रही थी. आखरी के जोर के झटकों के साथ मैं अपनी परम सीमा पर पहुँच गया था. अब तो मेरे मुंह से भी सिसकियाँ छूट रही थी. अब मुझे जन्नत सा सुकून मिल रहा था. मैंने भी अपनी आँखों को दो पल के लिए मींच लिया और निकल जाने दिया अपने मुठ की पिचकारी को. मैं सोनम की भीगी जाँघों को बीच चिकनी चूत में लंड को बरसाए जा रहा था. हम दोनों ने मिलकर जवानी के इस मिलन को भरपूर ही जिया था. तब से मैं और सोनम हमेशा इस आग में जलने का लुप्त उठाते हैं.

loading...
loading...

Leave a Reply