ललिता आंटी को व्हाट्सएप से पटा कर चोदा

हेलो दोस्तों मेरा नाम अनंत हे. में 27 साल का हूँ और में शादी शुदा हूँ , में जोधपुर सिटी से बिलोंग करता हूँ मेरा दलाली का बिज़नेस है! मेरा रहन सहन अच्छा है में काफी हद तक हैंडसम दीखता हूँ! दोस्तों यह एक सच्ची घटना है दोस्तों में जोधपुर में मेडी एरिया में रहता हूँ और यहाँ पे कोचिंग सेंटर है तो यह छात्र का एरिया कहलाता है! मेरे मकान के सामने कही मकान ऐसे है जिसमे छात्रा रेंट (पि.जी) पर रहते है तो आज से 6 महीने पहले मेरे मकान के सामने जिसमे सिर्फ लड़किया ही पीजी रहती थी. उसमे एक नयी लड़की आई यही कोई 1920 साल की होगी. लेकिन उसके साथ उसकी माँ भी आई साथ रहने के लिए उनका नाम ललिता है. उनकी उम्र 38 होगी लेकिन वो दिखने में बहुत सेक्सी दिखती थी. वो पंजाब से आये थे और उनके हस्बैंड का बिज़नेस था तो बेटी की स्टडी के लिए सिर्फ उस लड़की की माँ ललिता ही साथ आई थी और हस्बैंड पंजाब में ही थे!

दोस्तों ललिता आंटी 38 की उम्र में भी बहुत फिट रहती थी हलाकि शुरू में मैंने ज्यादा ध्यान नहीं दिया लेकिन एक दिन जब में अपनी टेरिस पे अपने पालतू कुत्ते के साथ खेल रहा था तब ललिता आंटी भी सामने टेरिस पे वस्र सुखा रही थी. उस समय पहली बार हमारी आँखें मिली. ललिता आंटी ने गुलाबी कलर का पंजाबी शूट पहना हुआ था और बाल खुले हुए थे मुझे ललिता आंटी बहुत सेक्सी लगी. लेकिन उस समय सिर्फ नार्मल आँखें मिली और वस्र सुखा के ललिता आंटी चली गयी और में भी नीचे गया! थोड़ी देर बाद जब में जॉब के लिए अपने ऑफिस जा रहा था तब ललिता आंटी भी साग-सब्ज्जी ले रही थी और उस समय भी हमारी नज़रे मिली और में जॉब चला गया. अगले दिन भी टेरिस पे हमारी आँखें मिली लेकिन ललिता आंटी ने हल्की सी मुस्कराई और में भी थोड़ा मुस्कराया फिर मैंने बात करने के लिए पुछा आप नए है यहाँ ललिता आंटी ने कहा हां फिर मैंने पुछा कहा से तो उन्होंने पंजाब बताया.

मैंने पुछा कोई तकलीफ़ तो नहीं रही आपको जोधपुर में ललिता आंटी ने कहा कभी कभी थोड़ी तकलीफ़ जाती है क्योकि नई-नई जगह है! फिर ललिता आंटी भी चली गयी और में भी इसके बाद हमारी गपशप होती रहती. लेकिन में जब भी ललिता आंटी से बात करता था मुझे बहुत सेक्सी अहसास होता था मेरा लंड खड़ा हो जाता था लेकिन में नार्मल रहने की कोशिश करता. हालांकि जिस तरह ललिता आंटी मुझे देखती थी मुझे भी लगता था उनके मन में भी मेरे लिए सेक्सी अहसास है. हालांकि उम्र में वो ज्यादा थी और में एक इज़्ज़त दार फॅमिली से हूँ और शादी शुदा भी हूँ तो मुझे थोड़ा डर भी लगता था. इसलिए में कोई ऐसी हरकत नहीं कर सकता था जिससे कोई समस्या हो जाये. लेकिन एक दिन ललिता आंटी ने मेरा फ़ोन नंबर लिया और कहा कभी कोई तकलीफ़ हो गयी तो में आपसे मदद तो ले सकती हूँ. मैंने भी उनका नंबर ले लिया और सेव कर लिया! अब मुझे भी लगा ललिता भी मुझमे इंटेस्टेड है और मैंने उन्हें वाट्सऍप पे सिर्फ हाय का मैसेज किया उनका भी रिप्लाई गया और हमारी बातें वाट्स ऍप पे शुरू हो गयी.

सिर्फ नार्मल बातें कोई गन्दी बात नहीं! एक दिन मैंने जान बूझकर ललिता आंटी के वाट्स ऍप पे गन्दी फोटो और गन्दी वीडियो सेंड कर दिए और तुरंत बाद एक और मैसेज कर दिया मुझे माफ़ करना आपके पास गलती से यह वीडियो गए में किसी और को भेज रहा था. मुझे लगा कही कुछ प्रॉब्लम हो जाये इसलिए यह सॉरी लिख के भी भेज दिया. उनका कोई रिप्लाई नहीं आया और थोड़ी देर बाद ललिता आंटी का मेरे फ़ोन पे फोन आया उस वक्त दोपहर के 2 बजे थे. और मैंने हेलो कहा और कहा आंटी जी आप के पास गलती से वो वीडियो गए. ललिता आंटी ने हस्ते हुए कहा कोई बात नहीं और उनकी हँसी में इतनी शराबपस्ती थी दोस्तों मेरा पूरी शरीर में सरसराहट दौड़ गयी. ललिता ने कहा आप तो बहुत नॉटी है कितने गंदे वीडियो थे वो बाप रे बाप. में अब समझ गया ललिता आंटी भी मूड में है. मैंने कहा ललिता आंटी इसका मतलब आपने वो वीडियो देखे और वो हसने लग गयी. मैंने कहा आपको क्या अच्छा लगा उन वीडियो में.

तो ललिता आंटी बोली में आपसे बड़ी हूँ ऐसी बातें नहीं करनी चाहिए आप मुझसे बहुत छोटे हो. मैंने कहा लेकिन आप तो बहुत सेक्सी लगती है. तो ललिता आंटी बोली अच्छा पता नहीं आपको में कहा से सेक्सी लगी में तो पहले से मोटी भी हो गयी. मैंने कहा ललिता आंटी यह तो देखने वाले से पूछिये. ललिता आंटी बोली आप प्लीज मुझे ललिता कहा करो ललिता आंटी अच्छा नहीं लगता. मैंने कहा ओके ललिता. फिर मैंने कहा ललिता आप मुझे बहुत अच्छे लगते हो. तो ललिता ने कहा आप भी बहुत अट्रैक्टिव हो जब मैंने आपको पहली बार देखा तो मुझे भी आप बहुत अच्छे लगे.मैंने कहा क्या में आपसे अपने दिल की सारी बातें शेयर कर सकता हूँ. तो उन्होंने कहा हां मैंने कहा आप भी प्रॉमिस करो जो आपके दिल में होगा आप भी सच कहोगे. उन्होंने कहा प्रॉमिस इतने में उनकी बेटी कोचिंग से गयी और ललिता ने बाय कर दिया! अब मेरा दिमाग ख़राब हो गया पूरा लंड खड़ा हो गया और मैंने दिन में ही ललिता को याद करके मुठ मारी.

शाम को 7 बजे ललिता का वाट्स ऍप मैसेज आया तो मैंने भी जवाब दिया और ललिता का फोन गया. उन्होंने कहा बेटी अभी वापस कोचिंग चली गयी तो में कंटाल रही थी. फिर मैंने कहा ललिता मेरे मन में आपके लिए बहुत गंदे-गंदे विचार आते है. तो ललिता हसने लगी और बोली गुंडे कही के यह कहते ही मेरा लंड बिलकुल तन गया. मैंने कहा ललिता हम बाहर मिले कही. तो उन्होंने कहा तुम्हारा क्या इरादा है गुंडे? क्या आप को मुझसे डर लगता है. तो ललिता बोली डर तो लगेगा पता नहीं तुम मेरे क्या करोगे और हसने लगी. दोस्तों जब ललिता हस्ती थी तो मेरे पूरे शरीर में खलबली मचा जाती थी.ललिता ने कहा ठीक है 2 दिन के बाद मेरी बेटी की एक्स्ट्रा क्लास है तो वो दिन भर कोचिंग में रहेगी. मैंने कहा ठीक है हम परसो मिलते है में आपको पिक कर लूँगा. तो उन्होंने कहा, कहाँ जायेगे? मैंने कहाँ मुझ से डर लगता है जो यह पूछ रही हो तो ललिता हसने लगी!

दोस्तों में परसो का इंतजार करने लगा और मेरे एक दोस्त का मीरापुरा में एक मकान है वहा वो अकेला रहता है और दिन भर अपने अपने काम से बाहर रहता है. तो मैंने सोच लिया की ललिता को वही ले जाऊगा.अब मिलने के दिन मैंने अपने मकान से निकलते हुए देखा लेकिन सामने ललिता नजर नहीं आई लेकिन में ऑफिस के लिए निकल गया. ठीक 11 बजे मेरे पास ललिता का कॉल आया की आप कहाँ है में मेडी चौराहे पे हूँ. मैंने कहाँ में रहा हूँ और 10 मिनट में वह पहुंच गया. ललिता ने क्रीम कलर की साड़ी पहन रखी थी और लो नैक ब्लाउज …. उफ़्फ़्फ़्फ़्फ़् फ़्फ़्फ़्फ़्फ़्फ़्फ़्फ़ ……… क्या लग रही थी ललिता का पूरा गोरा बदन दिख रहा था. गोरा पेटगोरी नैक उफ़्फ़्फ़्फ़्फ़् फ़्फ़्फ़्फ़ मैंने कार का गेट खोला और ललिता बैठ गयी.

मैंने कहाँ आने के लिए थैंक्स तो ललिता बोली आपने बुलाया तो आना तो था ही वरना मेरे इतना अच्छा दोस्त नाराज हो जाता. तो मैंने कहाँ मेरी नाराजगी की इतनी चिंता है आपको. तो ललिता हसने लगी दोस्तों दिल तो कर रहा था ललिता के साथ कार में ही नंगा हो जाऊ. मैंने गाड़ी मीरापुरा पुरा ले ली क्योकि मकान की चाबी मेरे पास ही थी और मैंने खाने पीने का बहुत सामान भी ले लिया था कोल्ड ड्रिंक ..पेस्ट्री ..चिप्स. अब हम मीरापुरा पहुंच गए और मकान के अंदर एंटर किया.ललिता ने कहाँ यह किसका मकान है मैंने कहाँ यह मेरे दोस्त का मकान है और वो अभी बाहर है फिर हम सामने वाले कमरे में चले गए और मैंने दरवाज़ा पहले ही लगा दिया था. मैंने ललिता को बैठने के लिए कहाँ और ललिता बेड पे बैठ गयी और मैंने खाने की चीजे खोल दी और ललिता को कोल्ड ड्रिंक दिया.

ललिता कुछ शर्मा रही थी लेकिन फ्रेंड्स ललिता बेड पे बैठी इतनी सेक्सी लग रही थी ओह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह ….! में भी बेड पे बैठ गया और ललिता के पास सरक गया और उनके हाथ पे हाथ रख दिया ललिता आँखें नीचे किये हुए थी. मैंने हाथ पे किस कर लिया और उनका चेहरा अपने हाथो में ले के गालो पे किस किया. किस करते ही ललिता एक दम मुझसे चिपक गयी. अब में और ललिता एक दूसरे की बाहों में थे और में उनकी सॉफ्ट पीठ पे हाथ फेर रहा था और ललिता भी कॉपरेट कर रही थी. फिर हमने बहुत देर तक लिप किस किये और एक दूसरे के होठ चूसते रहे.फिर मैंने ललिता के बूब्स ब्लाउज से ही दबाने शुरू कर दिए ओह्ह्ह्ह्ह् ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह क्या मजा रहा था बड़े बड़े बूब्स. ललिता भी अपने दाँतो से अपने होठ काट रही थी.

और मैंने अपनी शर्ट खोल दी अब में जीन्स में था और ललिता मुझसे चिपक गयी फिर मैंने उसे थोड़ा दूर किया और उसका ब्लाउज खोलने लगा और जैसे ही ब्लाउज खोला अंदर ब्रा थी फिर मैंने ब्रा बिना खोले ही ललिता के बड़े बड़े बूब्स बाहर निकल लिए और पिंक निप्पल चूसने लगा. दोस्तों मुझे इतना मजा रहा था ऐसा लगा मुझे जन्नत मिल गयी ललिता भी बहुत एन्जॉय कर रही थी. मैंने अब ब्रा हटा दी और दोनों बूब्स दबाने लगा ललिता भी मुझे पूरा कॉपरेट कर रही थी और बार बार कह रही थी अनंत बस उफ़्फ़्फ़्फ़्फ़्फ़्फ़अनंत प्लीज ऐसे मैट करो प्लीज़्ज़ज़्ज़ज़्ज़ज़्ज़ज़्ज़ज़्ज़ में उन्हें जोर जोर से चूस और दबा रहा था अब मेरे लंड पूरा तना हुआ था. मैंने अपनी जीन्स खुद उतार दी और अब में सिर्फ अंडरवियर में था. मैंने ललिता का एक हाथ अपने अंडरवियर के ऊपर रखवा दिया ललिता मेरे लंड को ऊपर से ही सहला रही थी.

मुझे इतने मजे रहे थे ………… फिर मैंने ललिता को खड़ा किया और उसके पेटीकोट को खोल दिया. पेटीकोट नीचे सरक गया और ललिता सिर्फ पिंक पैंटी में रह गयी अह्ह्हह्ह्ह्हक्या जांघे थी ललिता की गौरी और सॉफ्ट और में भी सिर्फ अंडरवियर में रह गया था और हम दोनों खड़े थे और हम दोनों एक दूसरे से चिपक गए दोस्तों सिर्फ पेंटी में ललिता क्या क़यामत लग रही थी पूरी बॉडी गोरी और पेट थोड़ा लटका हुआ और सेक्सी लग रहा था.ललिता भी पूरी गरम हो चुकी थी वो गरम गरम साँसे छोड़ रही थी और मेरे तो हाल पूछो ही मत ..फिर मैंने खड़े खड़े ही ललिता की पैंटी में अपना हाथ दाल दिया ओह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह् ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह ….क्या सॉफ्ट पुस्सी (चूत) थी ललिता की , बाल बहुत कम थे और मैंने पैंटी नीचे रिस्का दी और ललिता ने भी मेरे अंडरवियर अपने मुलायम हाथो से नीचे रिस्का दिया और मेरे लंड को अपने पूरे हाथ में इतने प्यार से पकड़ रखा था की दिल कर रहा था काश पूरी जिंदगी मेरे लंड को ललिता अपने सॉफ्ट हाथों में इतने प्यार से पकडे रखे ..!

फिर मैंने ललिता को बेड पे लिटा दिया और ललिता के ऊपर ही नंगा लेट गया. दोस्तों जब ललिता बिलकुल नंगी बेड पे लेती तो इतनी सेक्सी लग रही थी की फिल्म एक्ट्रेस भी फ़ैल हो जाये. में वापस ललिता के बूब्स और निप्पल चूसने लगा और एक हाथ ललिता की चूत में दाल दिया और उनकी चूत में ऊँगली करने लगाआह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह …. ललिता इतनी सिस्कारिया मार रही थी और चूत पूरी गीली हो रही थी. जितना मजा मुझे रहा था उतना मजा ललिता को भी रहा था. फिर ललिता मेरी चेस्ट को किस करने और अपनी जीभ से चाटने लगी और बहुत देर तक मेरी चेस्ट को किस करती रही.फिर मैंने ललिता की जांघो पे हाथ फेर ओह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह सॉफ्ट और गोरी गोरी जांघे थी और में ललिता की जाँघों को किस करने लगा. फिर में अपना मूह ललिता की चूत के पास ले गया, कितनी प्यारी खुस्बूऔर में ललिता की चूत को चाटने लगा अपनी जीभ से. ललिता बहुत सिसकारी मार रही थी ललिता ऐसे तड़प रही थी जैसे पानी के बाहर मछली तड़पती है.ललिता के मुह से उफ्फ्फ ………. सीईईईईइ ….. आवाज निकल रही थी.

मुझे भी बहुत मजा रहा था में ललिता की चूत को अपने दाँतो से धीरे धीरे काट भी रहा था और ललिता को मीठा मीठा दर्द हो रहा था. अब ललिता की चूत भी बहुत गीली हो चुकी थी.मैंने अपना लंड ललिता के मुँह के पास ले जाके कहा ललिता अब तुम इस नॉटी बच्चे को भी किस करो. और ललिता ने अपने गुलाबी होंठो से मेरे लंड को किस किया .. आ ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह  … में तो मानो हवा में उड़ रहा था और ललिता ने मेरे पूरा लंड मुँह में ले लिया और किसी लोलीपोप की तरह चूसने लगी .. उफ़्फ़्फ़्फ़्फ़्फ़्फ़्फ़ ….. में वो फीलिंग्स बता नहीं सकता दोस्तों बस मजा रहा था और मेरे मुँह से भी सिसकारी निकल रही थी. थोड़ी देर बाद ललिता ने मेरे लंड चूसना बंद कर दिया और में अब समझ गया ललिता चाहती है में उसकी चूत में अब मेरे लंड डालूँ.मैंने भी बिना देर किये अपना लंड ललिता की चूत में डाल दिया और ललिता के नंगे शरीर पे बच्चे की तरह चिपक गया.

ललिता ने खुद की दोनों टाँगे कैंची स्टाइल में मिला ली और हिप्स ऊँचे कर दिए में तेजी से धक्के देने लगा और ललिता ने मुझे इतनी कस के पकड़ रखा था और मेरी पीठ पे अपने नाख़ून गड़ा रही थी! मुझे भी मीठा मीठा दर्द हो रहा था और में जोर से धक्के मार रहा था थोड़ी देर बाद ललिता बोली अभी मेरे हो गया प्लीज जल्दी करो अब थोड़ा दर्द हो रहा है,में थक भी गयी हूँ. मैंने कहाँ बस हो रहा है ललिता और उसने अब मेरे हिप्स पे अपने हाथ रख दिए और मेरे हिप्स दबाने लगी. मुझे और मजा आने लगा अब मेरे भी पानी निकलने का टाइम हो गया मैंने कहाँ ललिता मेरे निकल रहा है. तो वो बोली प्लीज अभी पानी बाहर निकलना अंदर नहीं.मैंने अपना लंड बाहर निकला और ललिता की चूत पे पूरा सफ़ेद गाढ़ा पानी निकाल दिया और .. आह्ह्ह्हह्ह ……. की आवाज निकाल के ललिता के ऊपर ही गिर गया और अगले 15 मिनट तक ऐसे ही नंगे चिपक के बातें करते रहे.

मुझे इतना मजा पहले कभी नहीं आया था और ललिता को किस कर रहा था, थोड़ी देर बाद ललिता ने कहाँ अब उठो मुझे वस्र पहनने दो और चलते है यहाँ से.मैंने कहाँ ललिता एक बार और प्लीज उसने कहाँ अभी फिर कभी. मैंने कहाँ नहीं एक बार जल्दी जल्दी कर लेंगे. हालांकि ललिता का भी मूड था और ललिता के हाथ में अपना लंड पकड़ा दिया ललिता मेरे लंड को सहलाने लगी और मेरा लंड वापस खड़ा हो गया. मैंने कहाँ ललिता इस बार घोड़ी बनके करेंगे जैसे मैंने तुम्हे वीडियो भेजा था और उस वीडियो में वो कर रहे थे. और ललिता को घोड़ी बनने को कहाँ. ललिता बहुत कॉपरेटिव थी उसने बिना आगे किये अपने हिप्स ऊँचे कर दिए. ललिता भी सेक्स की नयी नयी पोजीशन में इंट्रेस्ट रखती थी और मैंने पीछे से ललिता की चूत में लंड डाल दिया और जोर जोर से धक्के देने लगा…!

दोस्तों घोड़ी बनके ललिता और मस्त लग रही थी और धक्को से उसकी पूरी बॉडी हिल रही थी उसके हिलते हुए बूब्स क़यामत लग रहे थे.और में धक्को के साथ ललिता की नंगी पीठ भी सहला रहा था. थोड़ी देर बाद में डिस्चार्ज हो गया और ललिता के ऊपर उल्टा ही 5 मिनट नंगे लेटा रहा. अब ललिता बोली अनंत प्लीज अब चलो मुझे और भी काम है. और मैंने ललिता को किस करके आई लव यू कहाँ उसने भी मुझे किस किया और आई लव यू टू कहाँ.मैंने कहाँ ठीक है चलते है पर मेरी एक शर्त है, में तुम्हे वस्र पहनाऊगा और तुम मुझे वस्र पहनओगी. वो हसने लगी और बोली तुम बहुत बड़े गुंडे हो पर अच्छे गुंडे हो. और फिर मैंने ललिता की पैंटी उठाई और अपने हाथो से पहनाई ललिता ने भी मेरा अंडरवियर मुझे अपने सॉफ्ट हाथो से पहनायाओह्ह्ह्ह्ह्ह्हइसमें भी बहुत मजे रहे थे.

ऐसे हमने एक दूसरे को पूरे वस्र पहनाये और फिर मैंने उन्हें वापस मेडी चौराहे पे छोड़ा और उन्होंने ऑटो लिया और मकान पहुंच गयी. फिर मुझे वॉट्सएप्प मैसेज आया डिअर अनंत आज का दिन में कभी नहीं भूलूंगी मेरी लाइफ को खुश करने के लिए थैंक्स …… आई लव यू. मैंने भी रिप्लाई किया और कहाँ जितना ज्यादा अच्छा मुझे आपके साथ लगा उतना कभी नहीं लगा. इसके बाद हम वीक में एक बार जरूर मेरे कजिन के मकान जाते थे लेकिन लास्ट वीक उनकी बेटी का कोर्स ख़त्म हो गया और वो वापस चली गयी. लेकिन उनके साथ मुझे जितना मजा आया उन्हें भी उतना ही ज्यादा मजा मेरे साथ भी आया.दोस्तों में आज भी उन्हें मिस करता हूँ , लेकिन अब वो चली गयी और मुझे उम्मीद है मुझे जल्द ही कोई कोई ऐसा नया प्यारालविंग पार्टनर दुबारा मिलेगा जो मुझसे आगे में भी बड़ा होगा और इतना ही प्यारे नेचर का होगा जिससे में इतना प्यारा सेक्स का रिलेशन बनाओगे!

Leave a Reply