चपरासन सोनाली को स्कूल में चोदा

मैं आदित्य.. उदयपुर राजस्थान से हूँ और में जयपुर में गवर्नमेंट स्कूल में टीचर का जॉब करता हूँ। मेरी उम्र 32 साल है। दोस्तो, मेरी लाइफ में हमेशा मेरी एक कमजोरी रही है और वो है दूसरों की हेल्प करना और इसी बात की वजह से मुझे पहली चुदाई का मौका मिला। दोस्तों बात उस समय की है जब मैं एक प्राइवेट स्कूल में टीचर की जॉब करता था। वहाँ सोनाली नाम की एक चपरासन काम करती थी, उसकी उम्र यही 28 वर्ष के लगभग थी। सोनाली रंग रूप में सांवली जरूर थी, मगर सोनाली का फिगर जबरदस्त था। उसके बूब्स देखकर हर किसी का लंड सोनाली चोदने के लिए मचलता था, पर मैं सोनाली की इज्जत करता था.. इसलिए सोनाली अक्सर मुझसे अपने मन की बातें साझा करती थी।

सोनाली की शादी हुए 4 साल बीत गए थे लेकिन सोनाली को कोई बच्चा न हुआ था.. इसलिए सोनाली हमेशा उदास रहती थी।मैंने सोनाली को सलाह दी कि वो किसी ऐसे आदमी से चुदवाले जिस पर वो विश्वास कर सके। की वो आदमी किसी को कुछ बताये नहीं लेकिन सोनाली ने मुझसे कहा की ऐसा हो ही नहीं सकते अगर में किसी से बचे के लिए चुदाई करवाएगी तो वो लोग उसे वैस्य बना देंगे। एक दिन की बात है दोस्तों स्कूल की छुट्टी होने के बाद सोनाली स्कूल की सफाई कर रही थी कि बारिश शुरू हो गई और बारिश को देखकर बाकी का स्टाफ जल्दी चला गया। लेकिन प्रिंसिपल सर ने मुझे थोड़ा पेपर वर्क दिया था तो मुझे वो पूरा करके जाना था इस लिए में नहीं गया था।  अब पूरे स्कूल में सिर्फ में और सोनाली ही थे.. क्योंकि उस दिन प्रिंसिपल सर भी नहीं आए थे। स्कूल की सफाई के दौरान सोनाली बारिश में पूरी तरह भीग गई थी।

सोनाली के कपड़े पूरे भीग कर उसके शरीर से चिपक गए थे। सोनाली के ब्लाउज में से उसके बूब्स मुझे बिल्कुल साफ़ दिखाई दे रहे थे। मैं सोनाली को कामुक निगाहों से घूरने लगा और तो सोनाली को ये मालूम पड़ गया। यह देख कर सोनाली मेरे पास आई और मुझसे लिपट गई। सोनाली के लिपटते ही मैं तो जैसे नींद से जगा.. फिर सोनाली को मेने अपने से अलग किया और कहा- ये गलत है.. लेकिन जब मैंने सोनाली की आँखों को देखा तो मुझे ऐसा लगा जैसे मुझसे निवेदन कर रही हो और फिर में इंकार नही कर सका। फिर मैंने अपने होंठ सोनाली के भीगे हुए होंठों पर रख दिए और हम एक-दूसरे के होंठों को चूमने लगे। अय..हय.. क्या मुलायम होंठ थे सोनाली के.. होंठों को चूसते हुए मैं सोनाली के बूब्स बड़ी बेदर्दी से मसल रहा था और सोनाली भी मस्ती में होकर ‘सीसीसी…’ जैसी आवाजें अपने मुँह से निकाल रही थी।

फिर धीरे-धीरे मैंने सोनाली की साड़ी उसके शरीर से अलग कर दी और ब्लाउज भी उतार दिया, नीचे सोना ने ब्रा नहीं पहनी हुई थी। सोळै के ठोस और गदराए हुए बूब्स को देख कर मैं पागल हो उठा.. क्योंकि मैंने भी पहली बार किसी औरत के बूब्स देखे थे। मैं उन्हें पागलों की तरह चूसने लगा। अब सोनाली भी मेरा लंड मसल रही थी। फिर सोना ने मेरी पैन्ट खोल दी और मेरे अंडरवियर से लंड को बाहर निकाल कर उसे आगे-पीछे करने लगी। सोनाली उसे देखकर नीचे बैठ गई और मुँह में लेकर चूसने लगी, चूंकि मेरा पहली बार था इसलिए मेरे लंड का पानी जल्दी ही निकल गया और सोनाली मेरे लंड को चूसते-चाटते मेरा पूरा पानी गटक गई। फिर मैंने उसको पूरा नंगा करके एक टेबल के ऊपर लिटाया और सोनाली की टांगों को फैला कर उसकी चूत की मस्त छटा को निहारा।

उसकी सफाचट झांट रहित चूत देख कर मेरे होंठ सोनाली की चूत की तरफ बढ़ गए और मैं सोनाली की चूत को चूसते हुए उसका रसपान करने लगा। वाह.. क्या नमकीन स्वाद था उसका.. जब मैं सोनाली की चूत को चाट रहा था.. तो वो अपने मुँह से ‘सीसी आह आह उह माँ…’ जैसी आवाजें निकाल रही थी और अपनी गांड उठाते हुए अपनी चूत चटवा रही थी। थोड़ी देर में सोना की चूत ने भी पानी छोड़ दिया। इतनी देर में मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया। मैंने भी देर न करते हुए अपना लंड सोनाली की चूत के मुँह पर लगाया और एक जोर का धक्का दिया। चुत गीली होने के कारण मेरा लंड चूत की गहराइयों में उतर गया। फिर मैं सोनाली की चूत में अपना लंड दनादन पेलने लगा। वो भी अपनी कमर उचकाते हुए मेरे हर धक्के का जवाब दे रही थी। मैं सोनाली के दोनों बूब्स को मसलते हुए उसे चोद रहा था।

सोनाली मस्ती में चूर होकर कह रही थी- चोदो..चोदो.. मेरे राजा.. आज मेरी चूत का भोसड़ा बना दो.. कहाँ थे इतने दिनों से.. मेरी चूत कब की प्यासी थी.. तुम्हारे लंड की.. आज इसका पूरा कचूमर निकाल दो आह.. आह.. उह्म्म.. उह्म्म.. आह.. लगभग 5-7 मिनट की चुदाई के बाद उसकी चूत ने पानी छोड़ दिया और थोड़ी देर बाद ही मेरे लंड ने भी सोनाली की चूत में पानी छोड़ दिया। चुदाई के बाद जब हमें होश आया तो हमने फटाफट अपने कपड़े पहने और सोनाली ने मुझे धन्यवाद देते हुए कहा- मैं आपके अलावा किसी और पर विश्वास नहीं कर सकती थी.. यह कहते हुए वो रो पड़ी और मेरी भी आँखें नम हो गईं। इसके बाद फिर मुझे जब भी मौका मिला.. मैं उसे चोदता रहा और फिर एक दिन उसने मुझे उसके गर्भवती होने की खबर दी। यह थी मेरी पहली सच्ची कहानी।

Leave a Reply